72 घंटे के लिए EVM हमें दे चुनाव आयोग, बता देंगे इसमें क्या-क्या हुआ- केजरीवाल

0
117
New Delhi: Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal addresses a press conference at his residence in New Delhi on Sunday. PTI Photo

नई दिल्ली. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने मध्य प्रदेश में भिंड ज़िले के अटेर में ईवीएम मशीन के डेमो के दौरान किसी भी बटन को दबाने पर वोट भाजपा को मिलने के आरोप को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने आरोप लगाया कि यूपी चुनाव के दौरान ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की गई. एमपी के चुनाव के लिए यूपी के बंदे का नाम कैसे निकला. ये मशीन यूपी के कानपुर के गोविंदनगर से आई.

केजरीवाल ने आगे कहा, कानूनी तौर पर आप 45 दिन तक उन मशीनों का इस्तेमाल नहीं कर सकते. फिर चुनाव आयोग ने कानून की धज्जियां क्यों उड़ाईं. यूपी के चुनाव में भी ऐसी कई मशीनें हो सकती हैं, जो खराब हों. ऐसा लगता है सारी मशीनें टैंपर नहीं हैं, कुछ को टैंपर किया जा रहा है.

उन्होने ने मांग की है कि जो मशीन भिंड में पकड़ी गई है इसकी सारी जानकारी चुनाव आयोग सार्वजनिक करें. उन्होंने चुनाव आयोग को चिट्ठी के जरिए चैलेंज दिया है कि आप कहते हैं कि आपकी ईवीएम को कोई रीड और री-राइट नहीं कर सकता. आप हमें 72 घंटे के लिए मशीन दे दें हम बता देंगे इसमें क्या-क्या हुआ है.राजौरी गार्डन में भी VVPAT मशीन यूपी से मंगाई जा रही है. अरविंद केजरीवाल ने मांग की बैलेट पेपर के जरिए चुनाव कराए जाएं.

पंजाब में हार को लेकर आत्मविश्लेषण की चुनाव आयोग की सलाह पर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इस राजनीतिक सलाह का धन्यवाद. हम सोच रहे हैं उन्हें अपनी पीएसी में शामिल कर लें.

गौरतलब है कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने मध्य प्रदेश में वोटिंग मशीन में गड़बड़ी को निर्वाचन आयोग के समक्ष उठाया और मांग की कि आगामी चुनावों ईवीएम का प्रयोग रोक दिया जाए और मतपत्र के जरिये चुनाव करवाने की व्यवस्था बहाल की जाए.

दोनों दलों के नेताओं ने मध्य प्रदेश में वीवीपीएटी मशीनों के ट्रायल को लेकर वायरल हुए वीडियो के हवाले से वोटिंग मशीनों में गड़बड़ी के अपने दावे को पुख्ता बताया. वीवीपीएटी वे मशीन होती हैं जिससे निकलने वाली पर्ची से पता चलता है कि मतदाता ने किसे वोट दिया.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY