मेनका गांधी ने छेड़छाड़ के लिए फिल्मों को ठहराया जिम्मेदार

0
97

नई दिल्ली. महिला एवं बाल विकास मंत्री मंत्री मेनका गांधी नए बयान से फिर सुर्खियों में आ गयी हैं. शुक्रवार को एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि लगभग सभी फिल्मों में छेड़छाड़ को बढ़ावा दिया जाता है.

उन्होने कहा, ‘सभी फिल्मों में रोमांस की शुरुआत छेड़खानी से होती है, चाहे वह हिंदी फिल्म हो या फिर क्षेत्रीय फिल्म, दिखाया जाता है कि हीरो और उसके दोस्त किसी महिला को घेर लेते हैं, कमेंट करते हैं, कुछ बोलते हैं.’

बता दें कि इससे पहले भी मेनका अपने बयानों को लेकर विपक्षियों से घिरती रही हैं. अंतर्राष्ट्रीय महिला से पहले उनके एक बयान पर काफी बवाल भी हुआ था. एनडीटीवी के एक कार्यक्रम में मेनका गांधी ने कहा था कि लड़कियों और लड़कों के लिए एक तरह की ‘लक्ष्मण रेखा’ लगाई जानी चाहिए जिससे वे काबू से बाहर ना हों.

उन्होंने कहा  कि हॉस्टल में रहने वाले लड़के-लड़कियों के ज्यादा देर रात बाहर निकलने पर पहरा होना चाहिए जिससे वह भटके नहीं.

मेनका ने कहा था, ‘पेरेंट्स जो कि अपनी बेटी या फिर बेटे को कॉलेज भेज रहे हैं वे चाहते हैं कि उनका बेटा या बेटी सुरक्षित रहे. अगर आप 16-17 साल के हैं तो आपके हार्मोन्स बेहद चंचल होते हैं.’

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY